1,129 total views,  1 views today

आज दिनांक 30 जूलाई 2020 को भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय आह्वाहन पर सरकार जगाओ सप्ताह 24 से 30 जुलाई के अंतर्गत चरणबद्ध आंदोलन मजदूर छेत्र के निर्धारित दिनों के अन्तर्गत किए गए किए हैं जिसके तहत सार्वजनिक क्षेत्र समन्वय समिति भारतीय मजदूर संघ से संबंधित यूनियनों द्वारा आज ३० जुलाई को श्रमिकों की समस्याओं पर सभी पब्लिक सेक्टर में प्रदर्शन के माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किये जा रहे है इसी कड़ी में भेल हरिद्वार में भारत हैवी इलेक्ट्रिक कर्मचारी संघ ने भेल के मुख्य द्वार पर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए बी एम एस हीप के महामंत्री सन्दीप कुमार ने कहा कि वर्तमान सरकार भी 1991 की नरसिम्हा राव की सरकार द्वारा लाई गई उदारीकरण निजीकरण की नीतियों को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है देश के पब्लिक सेक्टर देश की रीढ़ है। पब्लिक सेक्टरो के निजीकरण से देश की अर्थव्यवस्था की कमर टूट सकती है उन्होंने कहा कि देश के किसी भी पब्लिक सेक्टर ईकाई में कर्मचारियों के पर्क्स/भत्तों में कटौती नहीं की गई है । भेल कारपोरेट द्वारा पर्क्स एवं अन्य कटौतियां करना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। इस अवसर पर भेल की ९ यूनियन के भेल हरिद्वार ट्रेड यूनियन संघर्ष मोर्चा द्वारा आंदोलन को समर्थन दिया गया

निफ्टयू यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक रामयश सिंह द्वारा कहा गया कि प्रदेश सरकार एवं केन्द्र सरकार कोरोना की आड़ में मजदूरों के श्रम अधिकारों का हनन कर रही है उत्तराखंड कैबिनेट द्वारा कारखाना अधिनियम एवं औद्योगिक विवाद अधिनियम में बदलाव करना एवं प्रदेश में निश्चित अवधि रोजगार कानून लाना मजदूर वर्ग पर कुठाराघात है। जिसका कड़ा विरोध किया जायेगा

कार्यक्रम में भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश कोषाध्यक्ष सुभाष पुरोहित BMS भेल के अध्यक्ष अरुण गुप्ता , HEWTU के श्री रामयश सिंह एवम महामंत्री विकास सिंह, हेमू के महामंत्री मोहित शर्मा, कर्मचारी परिषद के महामंत्री अमित चौहान, आशीष सैनी, अरविंद कुमार, पंकज गोगना, जय शंकर, रविन्द्र कुमार , अतुल राय, चंद्रशेखर चौहान,आदेश धीमान,धर्मेन्द्र लोधी,संजय सैनी, प्रमोद प्रजापति,सुनित अरोड़ा इत्यादि उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *