452 total views,  1 views today

“जिसका कोई नही होता उसका भगवान होता है” ये कहावत आपने सुनी होगी मगर भगवान किस रूप मे आपको मिल जाये ये आपको खुद नही पता होता और अगर पुलिस ही भगवान बन जाये तो यह एक बार फिर ये साबित करने के लिये काफी है मित्र पुलिस अभी मित्र पुलिस ही है।
भले ही देश मे अनलॉक 2 चल।रहा हो मगर लोगो की आर्थिक अभी भी अनलॉक के कारण व्यवस्थित नही हो पाई है। ऐसा ही एक मामला उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले मे सामने आया, इस जिले के एसएसपी पी• एन• मीणा(आईपीएस) द्वारा लॉक डाउन के समय से ही जरूरतमंदों की फरियाद पर उन्हें अतिआवश्यक दवाइयां बाहरी राज्यो एवं जनपदों से मंगवा कर उनके घर तक पहुचाने का कार्य किया जा रहा है।

ये बात पूरे जिले को पता थी कि अल्मोड़ा पुलिस द्वारा इस तरह का नेक कार्य किया जा रहा है जिसपर विश्वास करते हुए ग्राम मालता, जलना की रहने वाले दीपा देवी ने प्रभारी मीडिया सेल अल्मोड़ा हेमा ऐठानी को हेल्पलाइन नंबर पर फ़ोन कर अपने मरीज के लिये दवाई दिल्ली एम्स से मंगवाने की गुजारिश करी जिसके बाद अल्मोड़ा पुलिस द्वारा इस काम का बीड़ा उठाया आज ग्रामीण दीप देवी को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा 2 माह की दवाई निशुल्क उपलब्ध कराई। पिछले कई दिनोंसे दवाई के लिये परेशान दीपा देवी इस दवाई को देख अपने आँसू नही रोक पाई और पुलिस का धन्यवाद अदा करते हुए एहकह गयी, “आप भगवान हो साहब” दीपा देवी ने यह बताया कि अगर यह दवाई समय से उनके मरीज को नही मिलती तो काफी परेशानी हो जाती है एक तो यह दवाई यहाँ मिलती नही ऊपर से यह दवाई है भी बहुत महंगी और इस समय घर की माली हालत भी ठीक नही थी, मीणा सर द्वारा आज हमारे लिये जो करा है वो हमें हमेशा याद रहेगा। यहाँ बता दे कि अल्मोड़ा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा जनपद में “उम्मीद” नाम से एक मुहिम चला रखी है जिसमे ज़रूरतमंद लोगो को आवश्यकता अनुसार दवाई उपलब्ध कराई जाती है, अभी तक इस अभियान से 150 से ज़्यादा लाभार्थियों को मदद करी गयी है। अपने सामाजिक कार्यो के लिये पूरे जनपद में मशहूर एसएसपी साहब ने अब अपने स्टाफ को भी इस अभियान में सजग रखा है जिसका परिणाम आज जनपद के सामने है, इस पहल को धरातल पर लाने के लिए एसएसपी मीणा की पीआरओ हेमा ऐठानी ने कड़ी मेहनत कर जनता के बीच ला दिया है।
पिछले दिनों रुद्रपुर, उधमसिंग नगर में सीपीयु पर लगे गंभीर आरोपो के बाद अल्मोड़ा पुलिस कि यह पहल कही ना कही पुलिस की छवि सुधारने मे मदद करेगी।

By Sandeep Pandey

लेखक covid 19 को 8 मार्च से लगातार कवर कर रहा है और इसपर बारीकी से नज़र बनाये हुए है। इसके साथ ही क्षेत्र की विभिन्न सामाजिक, राजनीतिक और आपराधिक मामलों पर 2015 से लिख रहे है। इसके साथ ही पर्यावरण और उत्तराखंड में रोजगार के विषय पर 2007 से कार्य कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *