ईओडब्ल्यू और ईडी के बाद केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने भी 200 करोड़ रुपए की ठगी करने वाले सुकेश चंद्रशेखर पर शिकंजा कसा है। सीबीआई ने तमिलनाडु की सीजेएम कोर्ट में महाठग सुकेश चंद्रशेखर और उसके साथी संजय जैन के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर दिया है। फिलहाल सुकेश दिल्ली की जेल में बंद है

दरअसल सीबीआई ने 27 मई 2020 को सुप्रीम कोर्ट के 3 मार्च 2020 आदेश के बाद तमिलनाडु में 25 नवंबर 2019 को चेन्नई पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर को टेकओवर करके नया केस दर्ज करके जांच शुरू की थी। जांच में सामने आया था कि दोनों आरोपी डिजिटल डिवाइस के जरिए चीटिंग करने की साजिश में शामिल थे

आरोपी सुकेश चंद्रशेखर अक्टूबर 2019 में जब पेरोल पर जेल से बाहर आया था तो उसने स्पूफिंग के जरिए खुद को भारत सरकार का अलग-अलग अधिकारी बताकर उन लोगो को कॉल किया जो अलग-अलग क्रिमिनल केस में जांच एजेंसी के दायरे में थे। इन लोगों को अलग-अलग तरीके से ठगने के लिए इन्हें कॉल किए गए थे

सुकेश ने भारत सरकार का अधिकारी बनकर करोड़ों ठगे

सुकेश ने बड़े-बड़े व्यापारियों से स्पूफिंग के जरिए कॉल करके खुद को भारत सरकार का अधिकारी बताकर उनके केस सेटल करने के लिए बड़े लेवल पर करोड़ो रुपए की ठगी की और इन पैसों का इस्तेमाल खुद के पर्सनल इस्तेमाल के लिए किया। 

दूसरा आरोपी संजय जैन जो दिल्ली के पंजाबी बाग में रहता था वो सुकेश के लगातार संपर्क में था और उसके लिए लॉयर से लेकर तमाम लीगल मदद करवाया करता था और सुकेश के लिए डील भी करता था। 

इनकम टैक्स विभाग ने कई विभागों और लोगो के यहां इस केस में 2019 में रेड्स भी की थी जिसमे तिरुपति, आंध्रप्रदेश में एक ऑर्गेनाइजेशन के यहां भी रेड्स की थी जिनका अपना एक मंदिर था।

स्पूफिंग के जरिए ये सरकारी दफ्तरों के लैंडलाइन नंबर शो करवाए

सुकेश ने इस ऑर्गेनाइजेशन के ऑपरेशन देखने वाले एक शख्स को स्पूफिंग के जरिए कॉल करके भारत सरकार का एक अधिकारी लॉ सेकेट्री बताया और उसपर 7.50 करोड़ रुपए देने का दबाव बनाया। स्पूफिंग के जरिए ये सरकारी दफ्तरों के लैंडलाइन नंबर शो करवाकर खुद को भारत सरकार का अधिकारी बताता था जबकि ये नंबर भारत के नहीं बल्कि विदेश के हुआ करते थे। 

सुकेश ने इसी तरह विदेशी नंबर्स के जरिए मुंबई से भी 2 करोड़ रुपए कलेक्ट किए थे। सीबीआई ने इस मामले में आरोपियों से कस्टडी में पूछताछ भी की थी। फिलहाल सुकेश चंद्रशेखर दिल्ली की जेल में न्यायिक हिरासत में बन्द है। 

क्या है सुकेश केस का बैकग्राउंड

दिल्ली पुलिस की ईओडब्ल्यू और केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी भी सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल कर चुकी है, जिसमें स्पूफिंग के ऑडियो भी आरोप पत्र में मेंशन किए गए थे। इसमें सुकेश ने रैनबैक्सी के मालिक की पत्नी अदिति और कुछ और परिवार वालों को भारत सरकार के लॉ सेकेट्री बनकर केस खत्म करने के लिए करोड़ो रुपए की मांग की थी और स्पूफिंग के जरिए ये परिवार सुकेश के जाल में आकर करोड़ो रुपए सुकेश को दे चुका था। जिसके बाद दिल्ली पुलिस को स्पेशल सेल ने जेल से बैठकर स्पूफिंग करने वाले सुकेश का कॉल इंटरसेप्ट किया था और ये खुलासा हुआ था।

इसके बाद रैनबैक्सी के मालिक की पत्नी की शिकायत पर ईओडब्ल्यू ने केस दर्ज किया था और सुकेश को जेल से कस्टडी में लिया था। सुकेश ने स्पूफिंग के जरिए करोड़ों रुपए की ठगी से ऐंठे रुपयों के जरिए तिहाड़ जेल के अधिकारियों को रिश्वत देकर आलीशान जिंदगी जेल में बिताई थी और अभिनेत्री जैकलीन और नूरा को महंगे गिफ्ट देकर उनसे अपनी नजदीकियां भी बढ़ाई थीं। इसकी जांच अब ईओडब्ल्यू कर रहा है और इन अभिनेत्रितों के बयान भी दर्ज किए जा चुके हैं

By mh7news

Leave a Reply

Your email address will not be published.