19 जिलों में बाढ़ से 7636 Cr. का नुकसान, नीतीश ने तत्काल भरपाई की मांग की
पटना.

पटना.राज्य सरकार ने 19 जिलों में बाढ़ से हुई क्षति की भरपायी के लिए केन्द्र सरकार से 7636 करोड़ रुपए की मांग की है। इस संबंध में केन्द्र को पत्र लिखा गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हमने पूरी क्षतिपूर्ति की मांग नहीं की है। हमने उसी क्षति का आकलन किया जो केन्द्र को भेजना निहायत आवश्यक था। 1.71 करोड़ की आबादी प्रभावित, 514 मौतें....

- मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी मांग कभी ऐसी नहीं रही कि सारी क्षति की भरपाई केन्द्र ही करे। हमने केन्द्र के समक्ष सीमित मांग रखी है।

- हम जानते हैं कि केन्द्र हमारी हर क्षति की भरपाई नहीं कर सकता। सीएम ने कहा कि बिहार के बाढ़ को लेकर प्रधानमंत्री खुद चिंतित हैं।

- उन्होंने 9 अगस्त को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे किया था और तत्काल हमें 500 करोड़ की सहायता राशि दी। हम अपने स्तर से राहत और पुनर्वास का काम तेजी से कर रहे हैं।

जल्द आएगी केंद्रीय टीम : बाढ़ से हुई क्षति का जायजा लेने जल्द केंद्रीय टीम राज्य के दौरे पर आएगी। गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव मुकेश मित्तल की अध्यक्षता में सात सदस्यीय टीम का गठन किया गया है।

ये जिले पीड़ित

पूर्णिया, सुपौल, किशनगंज, कटिहार, अररिया, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, मधुबनी, मधेपुरा, सीतामढ़ी, दरभंगा, शिवहर, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, सहरसा, सारण, खगड़िया, सीवान और समस्तीपुर।

प्रखंड : 187पंचायत : 2371
सुरक्षित बचाए गए लोग8.54 लाख
राहत शिविरों की संख्या1358
कच्चा घर- टूटे व क्षतिग्रस्त1.09 लाख
पक्का घर- टूटे व क्षतिग्रस्त9526

1827 करोड़ की सड़कें बह गईं 1019 करोड़ की फसल नष्ट

- मृतकों के परिजनों को अनुग्रह अनुदान : 20.56 करोड़ 

- प्रभावितों के विस्थापन पर खर्च : 34.39 करोड़ 

- राहत शिविर के संचालन का खर्च : 49.05 करोड़ 

- सामुदायिक किचेन के संचालन का खर्च : 40.57 

- फूड पैकेट की ड्रापिंग : 25.80 करोड़ 

- एयरफोर्स के जहाज पर खर्च : 15.00 करोड़ 

- मुफ्त सहाय अनुदान : 2290.96 करोड़ 

- कपड़ा-बर्तन पर खर्च : 109.62 करोड़ 

- गृह व पशु क्षति : 288.65 करोड़ 

- फसल क्षति : 1091.34 करोड़ 

- पशु राहत शिविर/ नाव वितरण 248.17 करोड़ 

- ग्रामीण सड़क की मरम्मत पर खर्च : 1827.58 करोड़ 

- सड़कों की मरम्मत पर खर्च : 389.26 करोड़ 

- क्षतिग्रस्त बांधों की मरम्मत पर खर्च : 1117.96 करोड़ 

- बिजली खंभे और उपकरण की क्षति : 16.47 करोड़ 

- स्कूल भवनों की मरम्मत पर खर्च : 30.46 करोड़ 

- स्वास्थ्य सुविधाओं पर खर्च : 2.24 करोड़ 

- वनों की क्षति : 4.34 करोड़ 

- शहरी में सड़क, पुल आदि की क्षति : 34.03 करोड़ 

- कुल योग : 7636.51 करोड़ रुपए

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations