चंडीगढ़ छेड़छाड़ पर गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेजी, राजनाथ आज दे सकते हैं बयान
जेएनएन,

जेएनएन, चंडीगढ़। यहां हरियाणा के वरिष्ठ आइएएस अधिकारी की बेटी के साथ छेड़छाड़ मामले में पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय को भेज दी है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह इस मामले पर आज संसद में बयान दे सकते हैं। दूसरी आेर, पुलिस को मिली सीसीटीवी फुटेज में काले रंग की गाड़ी के पीछे सफेद एसयूवी दौड़ती दिख रही है, लेकिन इसमें नंबर नहीं दिख रहे हैं। पुलिस अभी आैर फुटेज खंगाल रही है।

चंडीगढ़ पुलिस और यूटी प्रशासन ने इस मामले में अब तक के घटनाक्रम की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेज दी है। गृह मंत्रालय ने सोमवार को चंडीगढ़ पुलिस से रिपोर्ट मांगी थी। रिपोर्ट में पूरे घटना क्रम का विवरण दिया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि कैसे अाइएएस अफसर की बेटर ने शुक्रवार रात करीब सवा 12 बजे 100 नंबर पर कॉल कर सहायता मांगी और पुलिस ने उसके खतरे को भांपते हुए नाकेबंदी कर लड़कों को दबोच लिया।

यह भी पढ़ें: बराला ने चुप्‍पी तोड़ी, कहा-पीड़ित लड़की बेटी जैसी, जांच पर कोई दबाव नहीं

रिपोर्ट में पुलिस ने बताया है कि उसने मामले में पीडि़ता का विस्तृत बयान दर्ज किया। उसी बयान के आधार पर लड़कों पर तुरंत केस दर्ज कर लिया। 354डी (छेड़छाड़), 341 (रास्ता रोकना) और 185 मोटर व्हीकल एक्ट (शराब पीकर गाड़ी चलाने) के तहत मामला दर्ज किया गया है। अपहरण की धारा लगाई जाए या नहीं कानूनी राय के बाद इस पर फैसला किया जाएगा। रिपोर्ट में इस बात का जिक्र भी किया गया है कि कई सीसीटीवी कैमरों से फुटेज निकाली गई है।

संभावना जताई जा रही है कि इस मामले पर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह आज संसद में बयान दे सकते हैं। अधिकारियों का कहना है कि गृह मंत्रालय अभी रिपोर्ट का अध्‍ययन कर रहा है। इसके बाद इस पर फैसला किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: IAS की बेटी से छेड़छाड़ः बराला का मजबूती से साथ देंगे हरियाणा के मंत्री

उधर, पुलिस को मिली सीसीटीवी फुटेज में काले रंग की गाड़ी के पीछे सफेद एसयूवी दौड़ती दिख रही है, लेकिन इसमें नंबर नहीं दिख रहे हैं। पुलिस अभी आैर फुटेज खंगाल रही है। कैमरा दूर होने के कारण न गाड़ी का नंबर दिख पाया और न ही किसी की शिनाख्त हो सकी। दो सीसीटीवी फुटेज में केवल दो सेकेंड के लिए दो गाडिय़ां दिख रही हैं। उधर हाईकोर्ट के कुछ वकील बुधवार को इस मामले पर जनहित याचिका (पीआइएल) दायर करेंगे।

-------

'' पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट बनाकर गृह मंत्रालय को भेज दी गई है। गंभीरता से जांच की जा रही है। पुलिस बिना भेदभाव के काम कर रही है।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations