हरियाणा में जाट आरक्षण मांग पर आंदोलन हुआ शुरू
Haryana Jat Aandolan Dharanain

हरियाणा में जाट आरक्षण मांग पर आंदोलन हुआ शुरू

झज्जर में इंटरनेट सेवाएं हुई बंद, जाट बाहुल्य जिलों में शुरू हुए धरनों, यमुनानगर में नहीं शुरू हुआ धरना

चंडीगढ़। अखिल भारतीय जाट आरक्षण समीति के आहवान पर रविवार को हरियाणा के 18 जिलों में जाट धरनों पर बैठे। पहले दिन फरीदाबाद जिले को छोडकर कहीं से किसी तरह की अप्रिय घटना का समाचार नहीं है। जाट समुदाय के लोग आज पूरा दिन जहां सडक़ोंं पर जमे  रहे वहीं पुलिस तथा रैपिड एक्शन फोर्स की टीमों ने भी मोर्चा संभाले रखा। जाट समुदाय के लोगों ने इस बार भी धरनों का केंद्र रोहतक जिले का गांव जसिया ही है। पिछले साल हुई अप्रिय घटनाओं को देखते हुए प्रदेश सरकार ने राज्य के झज्जर जिले में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया है। झज्जर जिले में शराब के ठेकों को भी अनिश्चित समय के लिए बंद कर दिया गया है।

फरीदाबाद जिले के गांव डीघ में जाट समुदाय के लोगों पर बगैर मंजूरी के धरने पर बैठने का आरोप लगा तो भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गया और उन्हें धरने से हटाने का प्रयास किया। जिसे लेकर कुछ समय के लिए माहौल गरमा गया लेकिन पुलिस विभाग के आला अधिकारियों तथा वरिष्ठ जाट प्रतिनिधियों ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत किया।

जाट आरक्षण समीति के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने आज के धरनों को पूरी तरह से सफल करार देते हुए कहा कि गुडग़ांव में जाटों ने शांतिपूर्वक तरीके से जिला प्रशासन के अधिकारियों को ज्ञापन दिया। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद में पुलिस ने माहौल बिगाडऩे का काम किया है। जिसे आंदोलनकारियों ने नियंत्रित किया है। यशपाल मलिक ने कहा कि जाटों के यह धरने लगातार जारी रहेंगे।

यमुनानगर में नहीं शुरू हुए धरने

अखिल भारतीय जाट आरक्षण समीति के आहवान पर आज प्रदेश के 19 जिलों की बजाए 18 जिलों में धरने शुरू हो गए। उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे यमुनानगर में आज धरने शुरू नहीं हुए। यशपाल मलिक ने कहा कि यमुनानगर में 31 जनवरी से धरने शुरू किए जाएंगे। इसकी तैयारी हो चुकी है।

हरियाणा के जिला फतेहाबाद में डयूटी में कोताही बरतने के मामले में पांच पुलिस कर्मियों को निलम्बित किया गया है, उनमें दो ईएएसआई नरेश सिंह व सूच्चा सिंह, और तीन ईएचसी नामत: कुलदीप, सुरजीत व सुभाष शामिल हैं।

पुलिस अधीक्षक, फतेहाबाद ओ.पी. नरवाल ने उन्हें निलम्बित किया है क्योंकि उन्हें फतेहाबाद में मॉक ड्रिल के उपरांत फ्लैग मार्च के दौरान डयूटी में कोताही बरतते पाया गया।  

झज्जर जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद

झज्जर।  जिला प्रशासन ने मोबाइल नेटवर्क पर प्रदान की जाने वाली 2जी, 3जी, 4जी, ईडीजीई, वाइस काल्स व जीपीआरएस, एसएमएस सर्विसज और बल्क मैसेजस जैसी इंटरनेट सेवाओं सहित सभी कालिंग सर्विस को दैनिक आधार पर सुबह 8.00 बजे से सायं 6.00 बजे तक बंद कर दिया है। जिला प्रशासन के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि जिला मजिस्ट्रेट, झज्जर रमेश चंद्र बिढान ने टेलीकॉम सर्विस सेवा प्रदाताओं को इन आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि इन आदेशों की उल्लंघना करते या कोई भी व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो उसेभारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने यह भी आदेश जारी किये हैं कि जिला झज्जर में झज्जर-बहादुरगढ़ रोड, रसलवाला चौक के पांच किलोमीटर की परिधि के भीतर सभी शराब की दुकानें आगामी आदेशों तक बंद रहेंगी। इस आशय का फैसला सार्वजनिक शांति और सौहार्द बनाए रखने के उद्देश्य से लिया गया है।

 

यज्ञ के साथ बल्ला गांव में धरना शुरू हुआ

करनाल। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की ओर से आरक्षण की मांग को लेकर रविवार को गांव बल्ला में अनिश्चितकालीन धरना की शुरूआत कर दी गई। प्रदर्शनकारियों की ओर से वैदिक मंत्रोच्चारण के  साथ यज्ञ में आहुति देकर धरना शुरू करने की घोषणा की। धरने में करीब दो दर्जन गांवों से लोगों ने पहुंचकर धरने का समर्थन किया। धरने की खास बात यह रही कि धरने में जाट समुदाय के अलावा जट्ट सिख एवं रोड समुदाय के लोगों ने भी हिस्सा लिया।

हवन संपन्न होने पर प्रदर्शनकािरयों की ओर से गंगाटेहड़ी गांव के पूर्व सरपंच धर्म सिंह को रविवार को दिए जाने वाले धरने का अध्यक्ष घोषित किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आरक्षण की मांग के लिए जाट समुदाय के साथ रोड बिरादरी भी पूरी जिम्मेवारी से अपना हक अदा करेगी। आरक्षण के लिए अकेले जाट बिरादरी को बदनाम करने कि जानबूझ कर प्रयास किया जा रहा है ताकि प्रदर्शनकारियों को मुद्दे से भटकाना आसान हो लेकिन इस मंशा को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। समिति के जिलाध्यक्ष नफे सिंह मान ने कहा कि उनकी मांगे पूरी नहीं होने तक धरना शांतिपूर्वक रूप से जारी रहेगा। गांव शेखूपुरा मंचूरी से जट्ट सिख समुदाए से भी लोग धरने को समर्थन देने पहुंचे।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations