लापता नौजवानों का रहस्य
रुड़की से दिलशाद खान

रूड़की में नौजवानों के रहस्यमय तरीको से घर से लापता होने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। पुलिस ग्यारह माह पूर्व हुए लापता नवयुवक के बारे में पता भी नहीं लगा पाई थी कि एक और व्यक्ति संदिग्ध परिस्थितियों में घर से लापता हो गया। दोनों युवकों के परिजन थाने से लेकर एसएसपी तक चक्कर लगाकर थक चुके है। युवकों की बरामदगी को लेकर धरना प्रदर्शन तक हुए लेकिन सब बेअसर साबित हुए। पुलिस के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। जवान लड़कों के गायब होने से परिजन दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर है  वहीं पुलिस लगातार लापरवाही का प्रदर्शन कर रही है। पुलिस  कार्रवाई सिर्फ मामले की तहरीर लेने और दिलासा देने तक सिमटकर रह गयी है। पुलिस ने लापता युवकों की बरामदगी को कोई ठोस प्रयास किये हो ऐसा देखने में नहीं आया।

 

वीओ--- रूडकी के शेखपुरी इलाके का एक परिवार पिछले लगभग साल से अपने नौजवान बेटे को तलाश कर रहा है.. पीड़ित परिवार थाना कोतवाली से लेकर पुलिस के आलाधिकारियो तक गुहार लगा चूका है लेकिन आज तक मात्र आशवासन के आलावा कुछ हाथ नही लगा.. पीड़ित परिवार का बेटा जावेद पिछले लगभग 11 माह से संधिगत परिस्थितियों में लापता हो गया था.. लापता युवक की काफी तलाश की गयी लेकिन कुछ पता नही चल पाया जिसके बाद पीड़ित परिवार द्वारा युवक की गुमशुदगी रूडकी कोतवाली में दर्ज कराई गयी.. लेकिन आज ग्यारा माह बाद भी युवक का कुछ पता नही चल पाया.. जिसको लेकर पूरा परिवार सदमे में है और अपने अपने लाल की वापसी की राह तक रहा है...

बाइट- अकरम ( लापता युवक के  पिता)

बाइट-  साजिदा ( लापता की माता )


वीओ--- वही दूसरी और जिला बिजनौर का निवासी रविन्द्र  जो रूडकी की एक प्राइवेट कम्पनी में काम करता था.. पिछले लगभग डेड माह पूर्व रविन्द्र घर से संधिग्त प्रस्थितियो में लापता हो गया था जिसके बाद रविन्द्र के परिजनों ने उसकी काफी तलाश की लेकिन रविन्द्र का कुछ पता नही चल पाया.. गुमशुदा रविन्द्र के परिजनों ने रूडकी कोतवाली में रविन्द्र की गुमशुदगी दर्ज कराई लेकिन आज तक पुलिस के हाथ खाली है.. पीड़ित परिवार जब भी पुलिस से रविन्द्र के बारे में जानकारी लेने के लिए कोतवाली जाते है तो उन्हें आशवासन देकर टाल दिया जाता है.. पीड़ित परिवार सदमे में है और पुलिस को धरना प्रदर्शन की चेतावनी दे रहे है.. साथ ही गुमशुदा रविन्द्र की पत्नी का कहना है की यदि पुलिस की और से जल्द ही कोई ठोस कदम नही उठाए गये तो वह आत्मदाह करने को मजबूर होंगे.


बाइट- अशोक ( परिजन

बाइट-     शशि  (लापता की पत्नी)

फाईनल वीओ --- रूडकी क्षेत्र से रहस्यमय तरीके से गायब हुए युवको और पुलिस की कार्यशैली से तमाम तरह के सवाल खड़े हो रहे है.. क्या पुलिस मात्र गुमशुदगी दर्ज कर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ सकती है.. क्या पुलिस के सूत्र इतने कमजोर हो गये है की एक भी लापता का सबूत नही जुटा पा रही.. क्या आश्वासनों पर ही मित्र पुलिस सिस्टम को चलाएगी.. ऐसे तमाम सवाल लोगो के जहन में है जिनका जवाब किसी के पास नही..


बाइट- एश्वर्य पाल (प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रूडकी )

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations