राम रहीम को जेल पहुंचाने वाली महिला आई सामने
नई दिल्ली:

राम रहीम को जेल पहुंचाने वाली महिला आई सामने

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने दो साध्वियों के बलात्कार मामले में सिरसा के डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को 20 साल सश्रम जेल की सजा सुनाई और 30 लाख 20 हजार रुपये जुर्माना लगाया गया। राम रहीम को सजा मिलने के बाद पहली बार पीड़िता का बयान सामने आया है। पीड़िता ने कहा है कि मुझे इंसाफ मिल गया है। 

2009 में कोर्ट गई थी पीड़िता

अपनी पहचान छिपाते हुए पीड़िता ने बताया कि वह सबसे पहले 2009 में कोर्ट गई थी। लड़की ने बताया कि उस दिन राम रहीम भी कोर्ट में मौजूद था। लेकिन वह ना तो तब डरी थी और ना ही अब डरती है। पीड़िता ने कहा कि राम रहीम के खिलाफ उसने गवाही दी, वो लड़ती रही, उसके  जिससे उसे सजा मिली। महिला ने कहा, इतने दिनों की अदालती कार्रवाई के बाद आज मुझे न्‍याय मिला है। वह महिला अब 40 साल की हो चुकी है। उसने शादी कर ली थी। फिलहाल उसके दो बच्चे भी हैं। महिला सिर्फ 2009 में कोर्ट गई। उसके बाद उसके पिता ने कार्यवाही को देखा।

गुरमीत ने बीती रात नहीं खाया खाना

अपनी दो अनुयायियों के साथ बलात्कार के मामले में 20 साल जेल की सजा सुनाए जाने के बाद गुरमीत राम रहीम सिंह ने बीती रात रोहतक की सुनारिया जेल में रात का खाना नहीं खाया।  जेल के एक अधिकारी ने आज बताया कि रात में 50 वर्षीय स्वयंभू बाबा ने केवल थोड़ा पानी पीया और सुबह दूध लिया था।  गुरमीत ने किसी से भी बात नहीं की और उसे जेल में इधर उधर चहलकदमी करते देखा गया।  

क्या था मामला?

राम रहीम पर 2002 में डेरा सच्चा सौदा की साध्वी ने बलात्कार का आरोप लगाया था। साध्वी ने प्रधानमंत्री और हाईकोर्ट को चि_ी लिखकर राम रहीम की पोल खोली थी। सीबीआई ने इस मामले की जांच की और अब पंद्रह साल बाद राम रहीम को उसके किए की सजा मिली है।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations