राजनीतिक संरक्षण में चल रहा था देह व्यापार, आपराधिक गिरोह सक्रिय
नागपुर

नागपुर.रामटेक में पर्यटन विकास िवभाग के रिसोर्ट में देह व्यापार को राजनीतिक पदाधिकारियों का खुले तौर पर संरक्षण था। जमीन व्यवसाय में चर्चा में रहे कामठी क्षेत्र के एक नेता की सक्रियता के बाद यह व्यवसाय बड़े पैमाने पर चलने लगा। आपराधिक गिरोह के कई सदस्य इस व्यवसाय में सुरक्षा रक्षक की जिम्मेदारी संभालने लगे। दावा किया जा रहा है कि नागपुर की बदनाम बस्ती गंगा जमुना से सीधे संपर्क में रहने वाले इस रिसोर्ट के माध्यम से रामटेक के आस-पास मिनी गंगा-जमुना उभारने का प्रयास होने लगा था।

- गौरतलब है कि बुधवार को रामटेक में महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम के ग्रीनलैंड रिसोर्ट में पुलिस ने छापेमारी की। छापेमारी में गंगा-जमुना की देह व्यवसाय में िलप्त महिलाओं के अलावा अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया।

- रिसोर्ट के प्रबंधक को भी गिरफ्तार किया गया है। रामटेक के खिंडसी क्षेत्र में महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम के दो रिसोर्ट हैं। इससे पहले निजी भवन व लॉजेस में इस तरह के व्यवसाय की शिकायतें मिलती थीं। छापामारी भी हुई, लेकिन पर्यटन िवकास निगम के रिसोर्ट में अनैतिक व्यवसाय का खुलासा होने से परिसर में हड़कंप मचा है। 

नाम बदलने के बाद बदला स्वरूप 

- स्थानीय लोगों के अनुसार पर्यटन विकास निगम के रिसोर्ट का नाम बदलने के साथ ही उसका स्वरूप भी बदल गया। पहले यह रिसोर्ट मेघदूत नाम से चलता था। शेखर नामक संचालक ने रिसोर्ट में यात्री बुकिंग के नियम सख्त रखे थे। आधार कार्ड या अन्य पहचान पत्र के बिना प्रवेश नहीं दिया जाता था, लेकिन एक साल पहले रिसोर्ट का स्वरूप बदल गया। एक धार्मिक संत के नाम पर संस्था ने रिसोर्ट को चलाने के िलए किराये पर लिया।

- संस्था में 3 भागीदार हैं। प्रशांत, बाबा व रिंकू नाम के इन भागीदारों में से दो भागीदार एक राजनीतिक दल के बड़े नेता कहलाते हैं। राकांपा से भाजपा में आकर राजनीतिक सफलता पाने वाले एक अन्य नेता का भी इन्हें संरक्षण मिला है। यह भी सुना जा रहा है कि राजनीतिक स्पर्धा के कारण मुख्यमंत्री तक एक नेता ने इस व्यवसाय की जानकारी पहुंचायी थी। एक सेना के माध्यम से भाजपा के बड़े नेताओं को चुनौती देने वाले ग्रामीण क्षेत्र के नेता की िलप्तता भी चर्चा में है।

- ग्रामीण क्षेत्र का वह नेता कुछ समय पर पुलिस जांच के दायरे में आया था। पुलिस उपायुक्त की कार्रवाई के बाद नेता ने पार्टी बदल दी। बताते हैं उस नेता ने क्षेत्र बदलते हुए रामटेक में व्यवसायिक पैठ जमाने का भी प्रयास किया है। ग्रीनलैंड के अलावा एक धार्मिक स्थल के पास के भवन में चल रहे व्यवसाय में उस नेता की अप्रत्यक्ष भागीदारी है।

संरक्षण देने वालों की होगी जांच

- पुलिस ने छापेमारी के दौरान जिन आरोपियों को पकड़ा, उनसे आवश्यक पूछताछ की जा रही है। रिसोर्ट चलाने वाली फर्म के संचालकों के नाम भी सांमने आए हैं। राजनीतिक संरक्षण के बारे में भी पड़ताल की जा रही है। देह व्यापार के लिए किसी भी तरह का संरक्षण देने वाले लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।

लोहित मतानी, उप-विभागीय पुलिस अधिकारी, रामटेक

जानकारी मंगवाई है

- पर्यटन िवकास िवभाग के रिसोर्ट में अवैध व्यापार की खबर मिलते ही पुलिस से आवश्यक जानकारी ली गई है। एफआईआर की कॉपी भी मंगवायी है। पूरी रिपोर्ट पर्यटन विकास विभाग महाराष्ट्र मुख्यालय को भेजी गई है। रिसोर्ट चलाने के संबंध में अनुबंध के बारे में अंतिम निर्णय मुख्यालय के अधिकारी लेंगे।

- हनुमंत हेडे, महाव्यवस्थापक, एमटीडीसी, नागपुर

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations