मुंबई में बारिश से बिगड़े हालात में मामूली सुधार, लोकल ट्रेन-फ्लाइट्स शुरू
मुंबई.

मुंबई. शहर के कई हिस्सों में रुक-रुक कर हो रही बारिश के बीच दो अलग-अलग मामलों में पांच लोगों के मौत की खबर सामने आई है। विक्रोली और ठाणे में 2 घर गिरने से 5 लोगों की मौत हो गई। बुधवार को मुंबई के कई इलाकों, अंधेरी और जोगेश्वरी में फिर तेज बारिश हो रही है। वेदर डिपार्टमेंट ने मुंबई और इसके आसपास के इलाकों में अगले 48 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी दी है। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने शहर में बुधवार को रेड अलर्ट जारी कर दिया है। बुधवार को यहां के स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी कर दी गई है। खुद सीएम ने लोगों से घरों में रहने की अपील की है। अपडेट्स...

- इस बारिश में मुंबई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेनों की आवाजाही पर असर पड़ा। हालांकि रातभर ठप रहने के बाद हार्बर लाइन और सेंट्रल लाइन शुरू हो गई हैं। वेस्टर्न रेल रूट पर ट्रेनें शुरू हो गई हैं। सेंट्रल रेलवे रूट पर भी कुर्ला से डोंबीवली के बीच लोकल चल रही है। मेट्रो सर्विस भी वर्सोवा और घाटकोपर के बीच शुरू हो चुकी है।

- सायन, कुर्ला, चूनाभट्टी, माटुंगा सेंट्रल, ठाणे, मुलुंड, समेत कई रेलवे स्टेशनों पर सैकड़ों पैसेंजर्स फंसे हुए हैं। कई को आरपीएफ टीम ने रेस्क्यू भी किया है।

- मुंबई डब्बावाला एसोसिएशन के स्पोक्सपर्सन सुभाष तालेकर ने कहा कि बुधवार को घरों से डिब्बे कलेक्ट नहीं किए जाएंगे। लिहाजा उनकी सेवाएं बंद रहेंगी।

- मुंबई के कई इलाकों में नेवी के जवानों ने लोगों को ब्रेकफास्ट बांटा। बेस्ट ने सीएसटी से ठाणे के लिए एक्स्ट्रा बसों को चलाने का फैसला लिया है।

- इस बीच वेदर डिपार्टमेंट के डीडीजी केएस होसलीकर ने कहा कि अगले कुछ घंटों तक मुंबई में बारिश नहीं होगी, क्योंकि बादल उत्तर की तरफ चले गए हैं।

- मुंबई के एयरपोर्ट के पीआरओ के मुताबिक, वहां से फ्लाइट्स की आवाजाही अब नाॅर्मल हो गई है।

चेन्नई से सीखा मदद का हुनर, बच गईं सैकड़ों जान

- मुंबई में 2005 जैसे हालात बनने से बच गए। इसकी वजह थी 12 साल पहले मिला सबक और दो साल पहले चेन्नई में आई बाढ़ में आजमाए मदद के सटीक तरीके।

- चेन्नई में करीब 350 मौतें हुई थीं और 18 हजार लोग विस्थापित हुए थे। तब लोगों ने एक-दूसरे की मदद कर बड़ा नुकसान बचाया था।

सोशल मीडिया बड़ा सहारा

- बीएमसी ने कहा- बारिश में फंसे हैं तो ट्वीट करें। इमरजेंसी नंबर 1916 और 100 जारी कर मदद मांगने की अपील भी की।

- लोगों ने #रेनहोस्ट से ट्वीट कर अपना पता और मोबाइल नंबर शेयर किया। बताया कि कितने लोगों को जगह दे सकते हैं।

- अपनी गाड़ी सेनिकलने वालों ने रूट व नंबर ट्वीट कर लिफ्ट के ऑफर दिए। ऑटो, कैब वालों ने भी 3-4 लोगांे को शेयरिंग की इजाजत दी।

- धार्मिक स्थलों, गणेश पंडालों, होटलों, दफ्तरों ने अपने यहां लोगों को ठहरने का ऑफर दिया।

देश की तीसरी सबसे तेज बारिश

शहरसमयकुल बारिशबारिश हर घंटे में
भोपाल9 जुलाई 20165 घंटे में 10 इंच2.00 इंच
श्रीनगर2 सितंबर 201430 घंटे में 18 इंच1.66 इंच
मुंबई29 अगस्त 20179 घंटे में 12 इंच1.33 इंच
चेन्नई30 नवंबर 201548 घंटे में 47 इंच1.00 इंच
मुंबई26 जुलाई 200524 घंटे में 37 इंच0.64 इंच

11 प्वाइंट्स में समझें पूरा मामला

1) मुंबई में हालात क्यों बिगड़े?

- मुंबई में पिछले तीन दिनों से लगातार बारिश हो रही है। सोमवार सुबह 8 बजे से मंगलवार सुबह तक करीब 152 मिमी बारिश हुई।

- स्कायमेट की रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को ही 9 घंटे में 30 सेमी (298 मिमी‌‌) बारिश दर्ज की गई।

- वेदर डिपार्टमेंट, पुणे के अफसर एके श्रीवास्तव बताते हैं कि मुंबई, साउथ गुजरात, कोंकण, गोवा और वेस्ट विदर्भ में 24 से 48 घंटे में भारी से भारी बारिश हो सकती है। इससे हालात और बिगड़ सकते हैं।

2) इसे ऐसे समझें

- भोपाल में इस सीजन में अब तक 21 इंच (533 मिमी) बारिश हो चुकी है। लेकिन मुंबई में 9 घंटे में ही भोपाल में हुई अब तक की बारिश का 57% (12 इंच) पानी बरस गया।

- इंदौर में भी इस सीजन में कुल 26 इंच (660 मिमी) पानी बरसा। इसका 46% पानी मुंबई में 9 घंटे में बरस गया।

- जयपुर में इस सीजन में अब तक 11 इंच (280 मिमी) बारिश हुई। जबकि मुंबई में मंगलवार को जयपुर की अब तक की कुल बारिश से भी एक इंच ज्यादा यानी 9% ज्यादा पानी बरस गया।

- बीएमसी के डिप्टी म्युनिसिपल कमिश्नर सुधीर नाईक ने बताया कि वडाला में सबसे ज्यादा 253 मिमी बारिश हुई।

3) सरकार ने लोगों को क्या सलाह दी है?

- आप जहां हैं वहीं रहें, जैसे ऑफिस या घर। 

- पानी भरने की वजह से बिजली जा सकती है। मोबाइल, लैपटॉप, पॉवर बैंक चार्ज रखें। 

- अपने साथ खाना पर्याप्त रखें। 

- यदि आप कार में फंस गए हैं। यह ऑटोमेटिक है तो सबसे पहले ग्लास ओपन कर लें। 

- अपनी लोकेशन के बारे में परिवार को बताते रहें। 

- सुरक्षित जगह पहुंचे। जैसे स्कूल, कॉलेज आदि। 

- बाढ़ वाली जगह जाने बचें। 

- बच्चों और बुजुर्गों की मदद करें।

4) कहां असर हुआ?

- मुंबई की लाइफ लाइन लोकल ट्रेन पर असर हुआ। सेंट्रल, वेस्टर्न और हार्बर लाइन्स पर लोकल ट्रेन रुक-रुक कर चलीं। कुछ इलाकों में बेस्ट की सर्विस बंद रही। न ऑटो चले और न टैक्सी रोड पर देखी गईं। लोग पैदल चलकर ऑफिस जाने के लिए स्टेशन पहुंचे।

- फ्लाइट ऑपरेशन पर भी असर पड़ा। लो विजिबिलिटी की वजह से छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर फ्लाइट ऑपरेशन को 45 मिनट तक रोकना पड़ा।

- मुंबई एयरपोर्ट से कुल 10 फ्लाइट्स रद्द हुईं। 7 फ्लाइट्स डायवर्ट की गईं। इनमें तीन फ्लाइट्स 6E-453 कोयंबटूर-मुंबई, 6E-5924 गुवाहटी-मुंबई और 6E-1708 दोहा-मुंबई को अहमदाबाद शामिल हैं। वहीं, 6E-665 दिल्ली-मुंबई, 6E-168 मुंबई-दिल्ली फ्लाइट्स रद्द हो गई।

- जेट एयरवेज ने बताया कि उसने भी अपनी तीन फ्लाइट्स को रद्द कर दिया।

- लोअर परेल, जोगेश्वरी, विक्रोली, दादर, एलफिस्टन, कुर्ल, अंधेरी, खार, वेस्ट, घाटकोपर, सायन और हिंदमाता इलाकों में पानी भरने से जाम लग गया।

- परेल स्थित केईएम हॉस्पिटल के ग्राउंड फ्लोर में पानी भर गया। जिसकी वजह 30 मरीजों को दूसरी फ्लोर पर शिफ्ट करना पड़ा।

5) मुंबई पुलिस ने कहा- जरूरी होने पर ही घर से निकले

- मुंबई पुलिस ने ट्वीट में कहा- "शहर के कई इलाकों में वाटर लॉगिंग होने से ट्रैफिक धीमा और कई जगह जाम है। इसलिए बहुत ही जरूरी होने पर घर से बाहर निकलें। पानी की वजह से अगर आप कहीं फंस गए हैं तो 100 नंबर डॉयल करें या हमें ट्विटर पर जानकारी दें।"

6) मोदी ने फडणवीस से बात की, लोगों से कहा- अहतियात बरतें

- पीएम ने ट्वीट कर बताया- "मुंबई में हो रही बारिश को लेकर मैंने महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फडणवीस से बात की। इन हालात से निपटने के लिए केंद्र सरकार महाराष्ट्र सरकार को सभी तरह की मदद मुहैया कराएगी।

- उन्होंने लोगों से अपील की कि वे सुरक्षित इलाकों में रहे और जरूरी अहतियात बरतें। 

- गृहमंत्री राजनाथ ने भी फोन पर देवेंद्र फडणवीस से बात कर हालचाल जाने।

7) 26 जुलाई 2005 की याद दिला दी

- मुंबई के हालात ने 26 जुलाई 2005 की याद दिला दी। तब भारी बारिश के बीच हजारों लोग रातभर सड़कों पर फंसे रहे थे। गाड़ियों में सफोकेशन और अन्य वजहों से करीब 500 लोगों की मौत हुई थी। मंगलवार की बारिश उसके बाद की सबसे ज्यादा बारिश है। बारिश ऐसी हुई कि बीएमसी को 12 साल बाद इमरजेंसी अलर्ट जारी करना पड़ा।

- मौसम विभाग के डायरेक्टर जनरल केजे रमेश ने इससे इनकार किया। उन्होंने कहा कि अभी 26 जुलाई 2005 जैसे हालात नहीं हैं। बता दें कि 26 से 27 जुलाई तक एक दिन में मुंबई में 94 सेमी (944 मिमी) बारिश हुई थी। मुंबई में आमतौर पर एक दिन में 10 से 15 सेमी बारिश नॉर्मल मानी जाती है।

8) सरकार की क्या तैयारी है?

- एनडीआरएफ की 5 टीमों को मुंबई में अलर्ट पर रखा गया है। 5 एडिशनल टीम को पुणे से मुंबई भेजा गया है। वेदर डिपार्टमेंट ने अगले 24 घंटों में महाराष्ट्र में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। खासकर नॉर्थन कोंकण रीजन में। 

- बीएमसी के डिप्टी म्युनिसिपल कमिश्नर सुधीर नाईक 6 बड़े पंपिंग स्टेशन स्थापित किए गए हैं। वहीं, बीएमसी के 30,000 कर्मचारी शहर के अलग-अलग इलाकों में काम कर रहे हैं। 

- नेवी ने कहा कि 42 हेलिकॉप्टर और गोताखोर बचाव अभियान चलाने के लिए दिन-रात मुस्तैद हैं। नेवी ने जरूरत पड़ने पर अपनी पांच बचाव टीम, दो गोताखोर टीम और मेडिकल टीमों को तैयार रखा है।

9) आज स्कूल-कालेज बंद रहेंगे

- महाराष्ट्र एजुकेशन मिनिस्टर विनोद तावडे ने बताया कि बुधवार को सभी स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे। मंगलवार को कुछ स्कूल ने जल्दी छुट्टी कर दी थी। वहीं, सरकार ने सभी ऑफिसेस को छुट्टी करने के आदेश दिए थे।

10) आयरन फ्रेम गिरने से 4 जख्मी

- मुंबई के वीपी रोड पर मंगलवार को पोस्टर लगाने वाली आयरन की एक फ्रेम गिरने से चार लोग जख्मी हो गए। उन्हें सैफी हॉस्पिटल में एडमिट किया गया।

- बीएमसी के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में यहां बारिश से जुड़े 42 एक्सीडेंट सामने आए। हालांकि, इनमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। तीन जगह दीवार गिरने की बात सामने आई है। वहीं, 70 जगह पर शॉर्ट शर्किट और 200 जगह पर पेड़ या उनकी ब्रांच गिरने की घटनाएं सामने आई हैं।

11) मदद के लिए यहां कॉल करें

- मुंबई पुलिस ने ट्वीट कर कहा- यदि कहीं पानी भरने की वजह से फंस गए हैं, तो मुंबई पुलिस को 100 नंबर पर फोन कर सकते हैं। ट्रैफिक हेल्पलाइन वॉट्सऐप नंबर: +91-8454999999, एमसीजीएम हेल्पलाइन नंबर: +91-22-22694725, +91-22-22694727, बीएमसी हेल्पलाइन नंबर 1916

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations