देहरादून एक्सक्लूसिव
देहरादून के कालेजों के बाहर बिक रही है चरस और स्मैक, कई छात्र भी पकड़े जा चुके हैं……

देहरादून। देहरादून के जाने-माने कालेजों में यदि आप अपने बच्चों को कोई कोर्स कराने भेज रहे हैं तो सावधान हो जाइए। क्योंकि इन कालेजों के आसपास नशा खुलेआम बिक रहा है। नशा कोई मामूली नहीं, चरस और स्मैक है जिसकी लत एक बार लग जाने के बाद छूटनी मुश्किल है। हैरानी की बात यह है कि छात्रों को चरस और स्मैक की सप्लाई करने वालों में अब तक पुलिस ने जिनकी गिरफ्तारियां की हैं। उनमें  से इन्हीं कालेजों के कई छात्र भी शामिल हैं। अच्छे घरों के कई छात्र पहले शौकिया नशा करने लगते हैं फिर पूरी तरह से नशे की गिरफ्त में आ रहे हैं। दून के कालेजों के आसपास छात्रों को काफी पहले से चरस और स्मैक आदि बेचने की शिकायतें पुलिस को मिलती रही हैं, जिनके आधार पर पुलिस ने कई गिरफ्तारियां की हैं। कालेजों के स्टूडेंट्स के नशा बेचते पकड़े जाने की जानकारी भी पुलिस की ओऱ से ही दी गई है। पुलिस यह भी बताती है कि नशीले पदार्थों की सप्लाई छात्रों को बरेली से की जाती है। अब वो बात अलग है कि नशे के सौदागरों की जड़ों तक पुलिस इतने सालों में क्यों नहीं पहुंची है या पहुंचना ही नहीं चाहती है। लेकिन अलग राज्य बनने के बाद से अब तक कई नौजवान जिंदगियां सिर्फ नशे के कारण ही मौत के मुंह में जा चुकी हैं। हांलाकि अब दून की एसएसपी स्वीटी अग्रवाल की ओर से नशे के खिलाफ सर्वोदय के नाम से एक अभियान शुरु किया गया है। उसमें कालेजों और दून की जनता का पुलिस को काफी सहयोग भी मिल रहा है। लेकिन खास बात यह है कि जिन लोगों के बच्चे देहरादून से बाहर से यहां आकर पढ़ाई कर रहे हैं। उन पेरेंट्स को अपने बच्चों पर ध्यान देने की जरूरत है और कालेजों के मैनेजमेंट से भी लगातार संपर्क में रहने की आवश्यकता है।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations