तंत्र साधना के नाम पर पत्‍‌नी पति की सीने पर बैठकर, उसके होठ को दांतों से काटकर खून चूसती थी
कोलकाता,

कोलकाता, [जागरण संवाददाता]। ये कैसी तंत्र साधना है जिसको सिद्ध करने के लिए कोई बच्ची तो कोई पति को ही मौत के घाट उतार रहा है। पुरुलिया के बाद अब वीरभूम में ऐसा मामला सामने आया है। मामूली बीमार पति के अंदर गंदी आत्मा का वास बताकर तंत्र क्रिया के लिए अमावस्या की रात पत्‍‌नी ने उसके सीने में बैठकर खून चूस लिया। शरीर में रक्त के अभाव के चलते बाद में उसकी मौत हो गई।

पुलिस ने आरोपी पत्‍‌नी और उसके भाई को गिरफ्तार कर लिया है। सूत्रों के अनुसार वीरभूम जिले के सदाइपुर थाना अंतर्गत तपासपुर गांव निवासी अभिजीत बागदी (30) की शादी गत एक वर्ष पूर्व ही पास के गांव की मोनिका बागदी के साथ हुई थी। इसके बाद से ही दंपती में कलह शुरू हो गई थी। घर में गंदी आत्मा का होना बताकर बीच-बीच में मोनिका भाग जाती थी।

उसका कहना था कि तंत्र साधना से ही आत्मा को घर से निकाला जा सकता है। इसी बीच अभिजीत बीमार पड़ गया था। लेकिन उपचार के लिए उसे अस्पताल में नहीं भर्ती करवाया गया था। मोनिका ने अपने भाई पवन बागदी को बुलाकर अभिजीत को अपने तांत्रिक मामा अजीत डोम के पास ले गए थे। झाड़ फूंक के बाद तांत्रिक ने कुछ जड़ी बुटी भी दी थी। शनिवार सुबह तांत्रिक मामा के निर्देश पर मोनिका ने जड़ी बुटी अभिजीत को खिला दी थी। इसके बाद उसे एक कमरे में बंद कर बाहर से ताला लगा दिया था।

गंदी आत्मा को भगाने के लिए मोनिका ने अभिजीत का खून भी पिया था। गत रविवार सुबह जब ताला खोला तो अंदर पड़े अभिजीत के मुंह से खून निकल रहा था। आसपास के लोगों को घटना की जानकारी होने पर उसे ब‌र्द्धमान मेडिकल कालेज एवं अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। डाक्टरों द्वारा खून चढ़ाने के बावजूद सोमवार तड़के अभिजीत की मौत हो गई। शव को लेकर जब मोनिका और उसका भाई पवन गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने उनको बंधक बना लिया।

पुलिस ने आरोपी पत्‍‌नी मोनिका और उसके भाई पवन को गिरफ्तार कर लिया। मौके से तंत्र साधना का सामान और लाल कपड़े में लिपटी एक अंगुली भी बरामद की गई है। बता दें कि हाल ही में पुरुलिया में तंत्र साधना के लिए सनातन ठाकुर नामक व्यक्ति ने साढ़े तीन वर्षीय बच्ची को सुई से गोद दिया था जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी। 

त्रिशूल गाड़कर तंत्र साधना करती थी मोनिका 

अभिजीत की मां का आरोप है कि मोनिका ने आंगन में त्रिशूल गाड़ रखा था। रात में त्रिशूल के पास बैठकर वह तंत्र साधना करती थी। गत अमावस्या को उनकी पुत्रवधू मोनिका जिस घटना को अंजाम दिया था उसकी सपने में भी कल्पना नहीं की थी।

आरोप है कि रात में मोनिका ने अभिजीत को नहलाया था और इसके बाद उसे आंगन में त्रिशूल के पास लिटा दिया था। उसके बाद सीने में बैठकर उसके होठ को दांतों से काटकर खून चूस रही थी। शरीर में रक्त की कमी होने के बाद से ही अभिजीत बीमार पड़ गया था। लोगों को गुमराह करने के लिए मोनिका ने उसके पति के शरीर में गंदी आत्मा का वास बता दिया था।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations